आई स्ट्रोक क्या है? कारण, लक्षण, और इलाज | Eye Stroke in Hindi

आई स्ट्रोक क्या है? What is Eye Stroke?

आई स्ट्रोक या नेत्र आघात या आँख का आघात तब होता है जब कुछ धमनियां रेटिना की रक्त की आपूर्ति को अवरुद्ध हो जाती है। आई स्ट्रोक का चिकित्सा नाम "रेटिनल आर्टरी ऑक्लूजन" (retinal artery occlusion) है। 

आपका रेटिना आपकी आंख का वह हिस्सा है जो प्रकाश को छवियों में बदलने के लिए आपके मस्तिष्क से संचार करता है। आप अपने रेटिना की सेवा करने वाली नस में अवरोध भी प्राप्त कर सकते हैं। इसे रेटिना नस रोड़ा कहा जाता है। आई स्ट्रोक चिकित्सा आपात स्थिति हैं।

क्या विभिन्न प्रकार के आई स्ट्रोक होते हैं? Are there different types of eye stroke?

रुकावट के स्थान के आधार पर एक रेटिना धमनी अवरोधन यानि रेटिनल आर्टरी ऑक्लूजन के अलग-अलग नाम हो सकते हैं। इनके लिए शर्तें नसों में रुकावटों पर भी लागू हो सकती हैं। रेटिना धमनी अवरोधन के प्रकारों में निम्न शामिल हैं :-

1. केंद्रीय रेटिना धमनी अवरोधन (central retinal artery occlusion – CRAO) :- यह शब्द आपकी आंख में मुख्य धमनी में रुकावट का वर्णन करता है, जो एक पेड़ के तने की तरह होगा। स्ट्रोक का प्रभाव पूरी आंखों में देखा जा सकता है।

2. शाखा रेटिना धमनी रोड़ा (बीआरओओ) (branch retinal artery occlusion (BRAO) :- यह शब्द आपकी आंखों में छोटी धमनियों में से एक में रुकावट को संदर्भित करता है, जैसे पेड़ के तने से जुड़ी एक शाखा। रुकावट का प्रभाव आंख के एक छोटे से क्षेत्र में देखा जा सकता है।

3. ट्विग रेटिना धमनी अवरोधन (twig retinal artery occlusion) :- यह शब्द एक ट्विग की तरह एक छोटी रक्त वाहिका में रुकावट का वर्णन करता है जो एक पेड़ के तने से जुड़ी शाखा का हिस्सा है।

आई स्ट्रोक कितने आम हैं? How common are eye strokes?

रेटिनल आर्टरी ऑक्लूजन या आई स्ट्रोक वाले लोगों की संख्या हर साल प्रति 100,000 लोगों पर लगभग 1 से 2 अनुमानित है।

आई स्ट्रोक के संकेत और लक्षण क्या हैं? What are the signs and symptoms of eye stroke?

आई स्ट्रोक के लक्षणों में आमतौर पर दर्द शामिल नहीं होता है। पहला और मुख्य लक्षण आमतौर पर दृष्टि की अचानक हानि या एक आंख में दृष्टि में परिवर्तन होता है जिसमें निम्न शामिल हो सकते हैं :-

1. फ्लोटर्स और फ्लैश (floaters and flash)।

2. धुंधली दृष्टि (blurred vision)।

3. अंधे धब्बे या अंधेरा (blind spots or darkness)।

दृष्टि परिवर्तन जो छोटे से शुरू होते हैं लेकिन समय के साथ खराब हो जाते हैं।

आई स्ट्रोक के क्या कारण हैं? What are the causes of eye stroke?

आंख का दौरा या स्ट्रोक आपके रेटिना में रक्त के प्रवाह में रुकावट के कारण होता है। अवरोध प्लाक (Plaque) या संक्रमण जैसी किसी ठोस चीज़ के कारण हो सकता है जो आपके शरीर के किसी अन्य भाग से टूट जाता है, जैसे आपके दिल के अंदर या किसी अन्य धमनी से। इस तरह की रुकावट को एम्बोलिज्म (embolism) कहा जाता है।

रुकावट रक्त के गाढ़ा (blood clots) होने और थक्का जमने के कारण भी हो सकती है। इस प्रकार की रुकावट को थ्रोम्बोसिस (thrombosis) कहा जाता है।

इन रुकावटों के कारण तरल पदार्थ का रिसाव होता है और ओकुलर (एक शब्द जो आपकी दृष्टि या आंखों को संदर्भित करता है) का दबाव बढ़ जाता है। यह दबाव ऑप्टिक तंत्रिका (optic nerve) को नुकसान पहुंचा सकता है, जो ग्लूकोमा (Glaucoma) के साथ होता है।

आई स्ट्रोक होने के जोखिम कारक क्या हैं? What are the risk factors for having an eye stroke?

आपकी एक आंख में स्ट्रोक होने के अधिकांश जोखिम कारक सामान्य रूप से स्ट्रोक होने के जोखिम कारकों के समान हैं। इन चीजों में निम्न शामिल हैं :-

1. उच्च रक्तचाप होना (high blood pressure)।

2. उच्च कोलेस्ट्रॉल होना (हाइपरलिपिडेमिया) (having high cholesterol (hyperlipidemia)।

3. रक्त वाहिकाओं (एथेरोस्क्लेरोसिस – atherosclerosis) में पट्टिका का निर्माण होना।

4. कोरोनरी आर्टरी डिजीज (coronary artery disease) होना।

5. पिछले स्ट्रोक का इतिहास।

6. 60 वर्ष से अधिक उम्र का होना।

7. पुरुष होना।

आई स्ट्रोक का निदान कैसे किया जाता है? How is eye stroke diagnosed?

एक आंख में दृष्टि का अचानक पूर्ण या आंशिक नुकसान एक चिकित्सा आपात स्थिति है। इस स्थिति में डॉक्टर आपको निम्न जांच करवाने के लिए कह सकते हैं :-

1. डॉक्टर आपको फंडोस्कोपी (नेत्रदर्शन) (Fundoscopy (ophthalmoscopy) करवाने के लिए कह सकता है, इस जांच में आपकी आंखों को देखने के लिए तेज रोशनी और नेत्रदर्शक का उपयोग करता है।

2. डॉक्टर फ़्लोरेसिन एंजियोग्राफी परीक्षण (fluorescein angiography test) का आदेश दें सकते हैं। इस प्रकार के परीक्षण में एक विशेष डाई का उपयोग किया जाता है जो यह दर्शाता है कि आपका रक्त आपकी आँखों में कैसे बहता है।

3. कलर फंडस फोटोग्राफी टेस्ट (color fundus photography test) करवाने की सलाह दी जा सकती है। यह परीक्षण फंडस की छवियां (fundus images) प्रदान करता है, आपकी आंख का वह हिस्सा जिसमें आपका रेटिना होता है।

4. डॉक्टर आपको ऑप्टिकल जुटना टोमोग्राफी (optical coherence tomography) की यह दी जा सकती है। यह इमेजिंग परीक्षण आपके रेटिना में रक्त वाहिकाओं (blood vessels in the retina) को दिखाता है।

यदि आपके डॉक्टर को लगता है कि आपको विशाल कोशिका धमनी (अस्थायी धमनीशोथ) (giant cell arteritis (temporal arteritis) जैसा विकार हो सकता है, तो वे अन्य परीक्षणों का आदेश दे सकते हैं, जिनमें निम्न शामिल हैं :-

1. अल्ट्रासाउंड (ultrasound)।

2. इकोकार्डियोग्राम (echocardiogram)।

3. सूजन के मार्करों की जांच के लिए रक्त परीक्षण (blood test)।

आँख के स्ट्रोक का इलाज कैसे किया जाता है? How is eye stroke treated?

आंखों के स्ट्रोक के उपचार में निम्न विकल्प शामिल हैं :-

1. आपकी आंखों में दबाव कम करने या रक्त के थक्के को भंग करने के लिए दवाएं।

2. रिसाव वाली रक्त वाहिकाओं को बंद करने के लिए लेजर उपचार।

3. बंद आंख की मालिश करना।

4. पैरासेन्टेसिस, जिसमें दबाव को दूर करने के लिए आपकी आंख से तरल पदार्थ लेने के लिए सुई का उपयोग करना शामिल है।

5. हाइपरबेरिक ऑक्सीजन थेरेपी (hyperbaric oxygen therapy), जिसमें एक विशेष कक्ष में शुद्ध ऑक्सीजन को सांस लेना शामिल है।

मैं आंखों के स्ट्रोक के विकास के अपने जोखिम को कैसे कम कर सकता हूँ? How can I reduce my risk of developing an eye stroke?

आप आंखों के स्ट्रोक के अपने जोखिम को कम करने में सक्षम हो सकते हैं :-

1. स्वस्थ आहार खाना और पर्याप्त व्यायाम करना।

2. मधुमेह होने पर अपने रक्त शर्करा के स्तर को स्थिर रखना।

3. अपने रक्तचाप, रक्त कोलेस्ट्रॉल और आंखों के दबाव के स्तर को प्रबंधित करना।

4. अपने नेत्र देखभाल प्रदाता के साथ नियमित मुलाकात करना।

5. धूम्रपान छोड़ना।

ध्यान दें, कोई भी दवा बिना डॉक्टर की सलाह के न लें। सेल्फ मेडिकेशन जानलेवा है और इससे गंभीर चिकित्सीय स्थितियां उत्पन्न हो सकती हैं।

Logo

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks