पैर के छाले क्या हैं? कारण, लक्षण और इलाज

पैर के छाले क्या हैं? What are legs ulcers?

पैर के अल्सर या छाले आपके पैर पर खुले घाव हैं जिन्हें उपचार के बावजूद ठीक होने में दो सप्ताह से अधिक समय लगता है। ये अल्सर आमतौर पर टखने और घुटने के बीच दिखाई देते हैं।

पैर के छालों से अक्सर रिसता रहता है (तरल पदार्थ या मवाद निकलता है) और अगर इलाज न किया जाए तो ये बड़े हो सकते हैं। आपके पैर का घाव जो तीन महीने के उपचार के बाद भी ठीक नहीं होता है उसे एक दीर्घकालिक स्थिति माना जाता है।

पैर में छाले क्यों होते हैं? Why do ulcers occur on legs?

पैर के अल्सर के कारणों में निम्न शामिल हैं :-

1.     क्रोनिक शिरापरक अपर्याप्तता (chronic venous insufficiency) :- क्रोनिक शिरापरक अपर्याप्तता तब होती है जब पैर की नसों में दोषपूर्ण वाल्व रक्त को पैर में पीछे की ओर प्रवाहित होने देते हैं जहां यह एकत्रित होता है। यदि आपके पैर की नसों में उच्च रक्तचाप विकसित हो जाता है, तो छोटी रक्त वाहिकाएं (केशिकाएं) फट सकती हैं, जिससे सूजन, खुजली और शुष्क त्वचा हो सकती है। जब त्वचा फट जाती है तो पैर के छाले विकसित हो जाते हैं।

2.     मधुमेह (diabetes) :- मधुमेह के कारण उच्च रक्त शर्करा का स्तर रक्त वाहिकाओं (blood vessels) के अंदर वसा जमा होने का कारण बन सकता है, जिससे वे संकीर्ण हो जाती हैं। रक्त प्रवाह कम होने से तंत्रिका क्षति या मधुमेह न्यूरोपैथी (Diabetic Neuropathy) हो सकती है। इन तंत्रिका समस्याओं के साथ, आप पैर के अल्सर को महसूस नहीं कर पाएंगे या यह नहीं जान पाएंगे कि यह वहां है। मधुमेह घाव भरने की प्रक्रिया को भी धीमा कर देता है।

3.     परिधीय धमनी रोग (पीएडी) (Peripheral Arterial Disease (PAD)) :- यह स्थिति धमनियों (एथेरोस्क्लेरोसिस – atherosclerosis) में प्लाक (फैटी जमा) का निर्माण करती है। पैर में रक्त वाहिकाएं संकीर्ण हो जाती हैं, जिससे रक्त संचार ख़राब हो जाता है। रक्त प्रवाह कम होने से पैर के अल्सर का उपचार धीमा हो जाता है। मधुमेह से पीड़ित लोगों में पीएडी विकसित होने की संभावना अधिक होती है।

4.     उच्च रक्तचाप (high blood pressure) :- क्रोनिक, खराब नियंत्रित उच्च रक्तचाप (उच्च रक्तचाप) निचले पैर पर बेहद दर्दनाक अल्सर का कारण बन सकता है जिसे मार्टोरेल अल्सर कहा जाता है। उच्च रक्तचाप के कारण त्वचा में केशिकाएं संकीर्ण हो जाती हैं, जिससे त्वचा में रक्त की आपूर्ति बंद हो जाती है। त्वचा मर सकती है, जिससे पैर में अल्सर बन सकता है।

पैर के अल्सर के जोखिम कारक क्या हैं? What are the risk factors for legs ulcers?

पुरुषों की तुलना में महिलाओं में पैर के अल्सर होने की संभावना दोगुनी होती है। अन्य कारक जो पैर के अल्सर को अधिक संभावित बनाते हैं उनमें निम्न शामिल हैं :-

1.     मोटापे या गर्भावस्था से अतिरिक्त वजन।

2.     शिरा समस्याओं का पारिवारिक इतिहास।

3.     स्वास्थ्य स्थितियाँ, जैसे मधुमेह, उच्च रक्तचाप और संधिशोथ।

4.     हिप रिप्लेसमेंट (hip replacement) या घुटना रिप्लेसमेंट प्रक्रियाएँ (knee replacement procedures)।

5.     चोटें और दर्दनाक दुर्घटनाएँ, जिनमें टूटी हुई हड्डियाँ भी शामिल हैं।

6.     पक्षाघात (paralysis) सहित शारीरिक गतिविधि की कमी।

7.     धूम्रपान।

8.     वैरिकाज़ नसें (varicose veins), वास्कुलिटिस (सूजी हुई रक्त वाहिकाएं) और शिरापरक रक्त के थक्के (Venous blood clots) (थ्रोम्बोएम्बोलिज्म – thromboembolism)।

पैर के अल्सर के लक्षण क्या हैं? What are the symptoms of legs ulcers?

निचले पैर का घाव जो दो सप्ताह के बाद भी उपचार से ठीक नहीं होता है, वह पैर के अल्सर का पहला संकेत है। घाव लाल, बैंगनी, भूरा या पीला (या रंगों का मिश्रण) हो सकता है। आपके पैरों पर ठीक न होने वाले घावों में अक्सर तरल स्राव होता है।

पैर के अल्सर के अन्य लक्षणों में निम्न शामिल हैं :-

1.     सूखी, पपड़ीदार या खुजलीदार त्वचा।

2.     त्वचा पर सख्त उभार या सख्त त्वचा।

3.     पैरों में दर्द, खासकर थोड़ी देर खड़े रहने के बाद।

4.     त्वचा का रंग लाल, नीला या बैंगनी (चोट जैसा)।

5.     निचले पैरों में सूजन (एडिमा)।

पैर के अल्सर का निदान कैसे किया जाता है? How are legs ulcers diagnosed?

एक संवहनी विशेषज्ञ (vascular specialist) – एक स्वास्थ्य सेवा प्रदाता जो संचार प्रणाली में विशेषज्ञता रखता है और घाव की देखभाल के बारे में जानकार है - अल्सर की जांच कर सकता है। आपका प्रदाता आपकी त्वचा और घाव की जांच करेगा।

आपको निम्न से गुजरना पड़ सकता है :-

1.     एंकल-ब्राचियल इंडेक्स परीक्षण (ankle-brachial index test), जो पैरों में रक्तचाप और रक्त प्रवाह को मापने के लिए अल्ट्रासाउंड तकनीक का उपयोग करता है।

2.     संक्रमण और त्वचा रोगों के लिए घाव से त्वचा कोशिकाओं और तरल पदार्थ की जांच करने के लिए बायोप्सी (biopsy)

पैर के छालों का इलाज कैसे किया जाता है? How are legs ulcers treated?

पैर के छालों को ख़त्म करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है। उपचार के बाद भी, घाव महीनों या कभी-कभी वर्षों तक बने रह सकते हैं।

अल्सर के प्रकार और कारण के आधार पर उपचार अलग-अलग होते हैं। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता घाव को ठीक करने, सूजन को कम करने और अल्सर को ठीक होने पर वापस आने से रोकने पर ध्यान केंद्रित करेगा।

पैर के अल्सर के उपचार में निम्न शामिल हैं :-

1.     पैरों में रक्त के प्रवाह को उत्तेजित करने के लिए स्टॉकिंग्स (stockings) या पट्टियों के साथ संपीड़न चिकित्सा (compression therapy with bandages)।

2.     कम से कम छह दिनों के लिए प्रतिदिन एक घंटे के लिए पैर को हृदय से ऊपर उठाना।

3.     घाव की देखभाल, जिसमें सफ़ाई (प्रदाता के कार्यालय में मृत त्वचा ऊतक को हटाना), संक्रमण को रोकने के लिए सामयिक (त्वचा) एंटीसेप्टिक्स और नियमित पट्टी परिवर्तन शामिल हैं।

4.     संक्रमण का इलाज करने के लिए एंटीबायोटिक्स (जब आवश्यक हो) और रक्त वाहिकाओं को खोलने और रक्त प्रवाह में सुधार करने के लिए दवाएं (वैसोडिलेटर)।

5.     रक्त में अधिक ऑक्सीजन पहुंचाने और उपचार में तेजी लाने के लिए हाइपरबेरिक ऑक्सीजन थेरेपी।

6.     वैरिकाज़ नसों के इलाज के लिए स्क्लेरोथेरेपी (Sclerotherapy) या एंडोवास्कुलर एब्लेशन (endovascular ablation)।

7.     क्षतिग्रस्त नस को हटाने, मरम्मत करने, बदलने या बायपास करने के लिए सर्जरी।

8.     4 इंच से बड़े घावों या ऐसे अल्सर के लिए त्वचा ग्राफ्ट जो अन्य उपचारों से ठीक नहीं होते हैं।

मैं पैर के अल्सर को कैसे रोक सकता/सकती हूँ? How can I prevent legs ulcers?

पैर के छाले आमतौर पर ठीक होने के बाद फिर से खुल जाते हैं। ये कदम पैर में अल्सर होने या घाव दोबारा होने के जोखिम को कम कर सकते हैं :-

1.     जब आप बैठे हों या सो रहे हों तो अपने पैरों को अपने हृदय से ऊपर उठाएं।

2.     स्वस्थ वजन बनाए रखें और शारीरिक रूप से सक्रिय रहें।

3.     मधुमेह, उच्च रक्तचाप, उच्च कोलेस्ट्रॉल (high cholesterol) और रेनॉड सिंड्रोम (raynaud syndrome) सहित रक्त परिसंचरण को प्रभावित करने वाली स्वास्थ्य स्थितियों को प्रबंधित करें।

4.     धूम्रपान और तम्बाकू उत्पादों का उपयोग करना बंद करें। धूम्रपान रोकने के तरीकों के बारे में अपने स्वास्थ्य सेवा प्रदाता से बात करें।

5.     शुष्क त्वचा को रोकने के लिए सौम्य (न सूखने वाले) क्लींजर का उपयोग करें और मॉइस्चराइजिंग लोशन लगाएं।

6.     पैरों में रक्त के प्रवाह को बेहतर बनाने के लिए प्रतिदिन एक घंटे के लिए कंप्रेशन स्टॉकिंग्स या पट्टियाँ पहनें।

पैर के अल्सर की जटिलताएँ क्या हैं? What are the complications of legs ulcers?

ठीक न होने वाले घाव वाले लोगों को निम्न जोखिम होता है :-

1.     अस्थि संक्रमण (bone infection) जैसे ऑस्टियोमाइलाइटिस (osteomyelitis), जिससे अंग हानि (विच्छेदन) हो सकता है।

2.     सेल्युलाइटिस (cellulitis), त्वचा और त्वचा के नीचे की परतों का एक संभावित गंभीर जीवाणु संक्रमण।

3.     सेप्सिस (sepsis), एक संभावित जीवन-घातक जीवाणु संक्रमण।

4.     स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा (squamous cell carcinoma) जैसे त्वचा कैंसर।

 

Logo

Medtalks is India's fastest growing Healthcare Learning and Patient Education Platform designed and developed to help doctors and other medical professionals to cater educational and training needs and to discover, discuss and learn the latest and best practices across 100+ medical specialties. Also find India Healthcare Latest Health News & Updates on the India Healthcare at Medtalks